RSS

Monthly Archives: April 2011

आगरा/१९७६ -७७ (भाग ४ )

जैसा कि पहले जिक्र कर चुका हूँ कि,मैंने जनता पार्टी की सरकार बनने एवं मोरारजी देसाई के प्रधान मंत्री चुने जाने की भविष्य वाणी कर रखी  थी और हमारे तत्कालीन यूं.ऍफ़ .सी.विनीत सक्सेना सा :उससे असहमत थे.मैंने बचपन में नानाजी के साथ  शाहजहांपुर में सभी राजनेताओं को सुनने तथा  फिर मेरठ में भी इसी परंपरा को जारी रखने का उल्लेख भी पूर्व में किया है.इमरजेंसी में हो रहे चुनावों में जब कि मेरी भविष्यवाणी दांव पर लगी हुयी थी मेरे द्वारा किसी भी राजनेता की सभा जो ड्यूटी के आड़े न हो छोड़ने का प्रश्न ही न था.हाँ किसी कांग्रेसी की सभा अलबत्ता इस बार नहीं सूनी जान -बूझ कर.सूना था रक्षा मंत्री बंसी लाल की कार को लोगों ने थूक -थूक कर खराब कर दिया था यह अफवाह थी या सच ?

१३ मार्च १९७७ को श्री हेमवती नंदन बहुगुणा की सभा हुयी थी.भारी भीड़ थी दिन भी रविवार था जिस दिन जूता कारीगरों की छुट्टी रहती है अतः वे बाबू जगजीवन राम के कारण बहुतायत में पहुंचे थे. बहुगुणा जी उस समय मुस्लिमों में बेहद लोकप्रिय थे अतः मुस्लिम भी थे और जनता पार्टी को जनसंघ का भी समर्थन होने से संघी भी खूब थे.मेरठ के भैन्साली ग्राउंड में लोकनायक जय प्रकाश नारायण की सभा में १९७५ में जितनी भीड़ थी शायद उससे भी ज्यादा आगरा के राम लीला ग्राउंड में लोग बहुगुणा जी को सुनने आये थे.भारी समर्थन से बहुगुणा जी गदगद थे.जूता कारीगरों में बौद्ध मत का प्रभाव देखते हुए उन्होंने आपात काल के किस्से सुनाते हुए कहा कि उस समय ‘संजय शरणम् गच्छामि’ चल रहा था.तत्कालीन मुख्यमंत्री श्री नारायण दत्त तिवारी की खिल्ली उड़ाते हए बहुगुणा जी ने उनके द्वारा संजय गांधी की चप्पलें उठा कर लाने की बात अपने जायकेदार ढंग से रखी.

इंदिरा जी द्वारा कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बुलाई गयी बैठक का जिक्र करते हुए बताया कि जब वह और बाबू जगजीवन राम नहीं पहुंचे तो इंदिरा जी ने बाबू जगजीवन राम को फोन करवाया तब इधर से बहुगुणा जी ने उनके पी.ए. से कहला दिया कि ‘आ रहा है’ इस बात का जिक्र उन्होंने जोरदार ठहाकों के बीच कहा कि इंदिरा जी समेत सभी चक्कर में पण गए कि एक अधिकारी एक मंत्री को ऐसे कैसे बोल सकता है लेकिन असलियत न समझ सके.कई बार फोन आया और हर बार एक ही जवाब दिलाया जाता रहा. बाबू जगजीवन राम का इस्तीफा जब वर्किंग कमेटी में पहुंचा तब असलियत का खुलासा हुआ और इंदिरा जी के पैरों के नीचे से जमीन खिसक गयी.चुनावों की घोषणा हो चुकी थी इंदिरा जी की आँखों के सामने पराजय चमक रही थी.

एक रात मोरार जी देसाई भी आगरा संसदीय क्षेत्र के प्रत्याशी प.शम्भूनाथ चतुर्वेदी का प्रचार करने आये.संघी नेता राज कुमार सामा ने उस सभा में प. चतुर्वेदी और प.देसाई की तुलना करते हुए बताया कि श्री देसाई ने सिटी मजिस्ट्रेट का पद छोड़ कर तो श्री चतुर्वेदी ने डी.एस.पी.पद छोड़ कर स्वतंत्रता आन्दोलन में भाग लिया था.दोनों अच्छे प्रशासक भी हैं और अच्छे जन नेता भी.आगरा की सभा से बहुगुणा जी की ही तरह मोरारजी भी गदगद होकर लौटे थे.

यह भी पहले ही लिख चुका हूँ कि मेरी भविष्यवाणी का समर्थन इंटेलीजेंस इन्स्पेक्टर राम दास यादव जी ने भी चौ.सा :से किया था जो उस समय होटल मुग़ल में सिक्यूरिटी अधिकारी थे .चुनाव परिणामों ने साथियों और अधिकारियों के बीच मेरी धाक जमाँयी थी और मुझे ही मुबारकवाद दिए जा रहे थे. लोगबाग अपना-अपना भविष्य मुझ से जानने के लिए बेताब थे और मुझे अपना ज्ञान विस्तार करने का सुनेहरा अवसर मिल गया था.

इन्हीं दिनों उ.आ. वि.प.ने कुछ मकानों के लिए पुनाराबंटन की सूचना निकाली थी. परचेज के साथी श्री हरीश छाबड़ा ने बताया और एक नेवी से रिटायर्ड और तब  ठेकेदार श्री गुरु बक्श सिंह ने मुझ से फार्म जमा करने को कहा.बउआ का तो कहना था ही कि अपना मकान ले लो.रु.२/- कीमत का प्रोस्पेक्टस बाबू जी ने ला दिया परन्तु समस्या तो सिक्यूरिटी डिपाजिट के रु.३००० /-जमा करने की थी.छाबडा जी न कर पाए बंदोबस्त और न फ़ार्म जमा किया. सिंह सा :को आर्मी कोटे के कारण सिर्फ रु.५००/-जमा करने थे और वह तो ठेकेदार थे उन्होंने जमा कर दिए.

सवा तीन साल की नौकरी में सरू स्मेल्टिंग मेरठ में रु.३०००/- बचाए और उसी कं.में फिक्स्ड डिपाजिट कर दिए थे जो अब नौकरी से बर्खास्तगी के बाद वह लौटा नहीं रहे थे. बाबू जी के आगरा में आने पर उनके दफ्तर के साथी एक चौ.सा :जो ‘कंचन डेरी’ चलाते थे और दफ्तर कम आते थे ने शुरू-शुरू में ही उनसे कहा था कभी किसी वकील की जरूरत पड़े तो बेझिझक कहियेगा. बाबूजी ने अब उन्हें समस्या बतायी तो उन्होंने फटाफट कांग्रेसी नेता और वकील कन्हैया लाल पाठक से हस्ताक्षर कराकर ब्लैंक लेटरहेड ला दिया .उस पर मैंने अपनी भाषा लिख कर साथी सुदीप्तो मित्रा से टाईप करा ली  और मेरठ रजिस्ट्री कर दी.

चुनावी हलचल से कं.के संचालक घबराए हुए थे नोटिस पहुँचते ही पेमेंट रिलीज कर दिया जो ग्रिन्द्लेज बैंक ,दिल्ली पर पेबल था. १५ दिन में चेक कैश हो कर आ गया और मैंने सेन्ट्रल बैंक,आगरा कैंट से जहाँ अकाउंट था से रु.३०००/- का ड्राफ्ट बनवाया ठीक उसी वक्त दिल्ली के रामलीला मैदान में नए प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई जनता को संबोधित कर रहे थे जहाँ तक मुझे याद है वह २५ मार्च का दिन था.बैंक के बाहर थोड़ी देर रेडियो पर भाषण सुनने रुक गया वैसे दो घंटे का अवकाश लेकर होटल से चला था.समय ज्यादा लगने पर भी टोकने वाला कोई नहीं था,सभी अधिकारी तो मेरी भविष्यवाणी की ही चर्चा कर रहे थे.विदेश मंत्री अटल बिहारी बाजपाई पहले बोल गए सेनायें जागती रहें फिर कुछ ख्याल करके बोले इस विषय पर तो प्रधान मंत्री ही बोलेंगें.

दफ्तर पहुँचने पर सभी ने कहा जरूर रेडियो पर भाषण सुन कर आये होगे और वे सब ठीक ही अनुमान लगा रहे थे.हमारा ड्राफ्ट रजिस्टर्ड डाक से ठीक समय से लखनऊ पहुँच गया था.जनता सरकार के गठन ने हमारे पर्सोनल मैनेजर झा सा : की निगाह में भी मेरी कीमत बढ़ा दी थी.लिहाजा स्टाफ को मैं अधिकाधिक रियायतें दिलाने में कामयाब रहा और इस प्रकार स्टाफ के मध्य पहले ही जो लोकप्रियता थी वह फौलादी होती गयी………

Advertisements
 

आगरा/१९७६-७७ ( भाग ३ )

लेखा  विभाग में कार्य करना और ईमानदार होना परस्पर  विरोधाभासी है और ऐसे ही आग और बर्फ के खेल में मैं उलझा रहा .स्वभाविक था मैं उन तमाम लोगों की नजरों में खटकता था जो बेईमानी के बादशाह थे.जो अकडू खाँ थे उनको मैं कुछ नहीं समझता था,जो संतुलित थे अपना कार्य धैर्यपूर्वक कराने में सफल हो जाते थे.इनमें एक थे -पी.वी.मेनन सा :जिन्हें वाई.एस.रामास्वामी सा :एम्.ई.एस. से रिजायीन कराकर ठेकेदार के रूप में लाये थे.मेनन सा :का कहना था-जो चाय पर खुश उसे चाय पिला देते हैं ,जो दालमोंठ मांगें उसे ला देते हैं,विजय माथुर कुछ लेते नहीं ,इन्तजार कराते हैं तो इन्तजार कर लेते हैं हम हर तरह खुश रहते हैं.दरअसल मेनन सा :खुशमिजाज ही थे.पैसे वाले होकर भी घमंड उन्हें छू तक नहीं गया था इसीलिये हमेशा सफल रहे.इसके विपरीत कुछ लल्लू -पंजू ठेकदार खुद को खुदा समझते थे उनका कार्य हमेशा लटकता था क्योंकि दत्त सा :मेरे कार्य के आगे मुझे झुकाने की कोई कोशिश नहीं करते थे जबकि प्रोजेक्ट मैनेजर पी.एल.माथुर सा :के पीछे परेशान करने का कोई मौक़ा नहीं चूकते थे.P .M .सा :कभी -कभी किसी विशेष व्यक्ति का पेमेंट जल्दी करने हेतु दत्त सा :को न कह कर सीधे मुझे ही कहते थे और इस प्रकार उनका कार्य सुगम हो जाता था.दत्त सा :के नीचे श्री अमर नाथ अरोड़ा सुपरिंटेंनडेंट अकाउंट्स बन कर आये थे.वह मेहरा सा :के निकटतम रिश्तेदार थे और उन्हें मैनेजर माथुर सा :का समर्थन हासिल था.स्टाफ में मेरे अलावा सभी उन्हें उखाड़ने के चक्कर में रहते थे.अरोड़ा सा :मुझ पर आँख मूँद कर विश्वास करते थे.अरोड़ा सा :बाम्बे पावर गैस कं.से आये थे और आई.टी.सी.के रंग-ढंग में रम नहीं पा रहे थे. मेरे ठोस समर्थन के कारण दत्त सा :के उन्हें नाकारा साबित करने  के   हर हथकण्डे नाकाम हो रहे थे. एक बार तो दत्त सा: ने मेहरा सा :को फैक्स कर दिया -‘Mr arora is not acting according to my instructions ‘.मेहरा सा ने अरोरा सा :को धैयपूर्वक डटे रहने को कहा और दत्त सा :के विकल्प के रूप में श्री विनीत सक्सेना जो उस समय डिविजन में मेहरा सा :के असिस्टेंट थे और जिनके श्वसुर सा :कलकत्ता में रेलवे के बड़े अधिकारी थे को हनीमून से लौटते ही भेजने का आश्वासन दिया. परन्तु ‘प्रभु जाको दारुण दुःख देहीं ताकि बुद्धि पहले ही हर लेहीं’.दत्त सा :ने जो आख़िरी दांव चला वह निशाने पर लग गया और अरोरा सा :मुझ से ही टकरा गए वह भी नाहक में.मैंने उनके समर्थन से अपना हाँथ खींच लिया और मौके का भर-पूर लाभ उठाते हुए दत्त सा :ने अपने आफिस का कमरा बन्द करके अरोरा सा :से स्तीफा लिखवा लिया और मेहरा सा :को फैक्स कर दिया.उनका स्तीफा स्वीकार कर लिया गया.सक्सेना सा :अभी हनीमून से आ नहीं पाए थे अतः मेहरा सा :ने दत्त सा :को वापिस सिगरेट डिवीजन में कलकत्ता भिजवा कर होटल मुग़ल में’ सिस्टम्स एंड आडिट मैनेजर ‘मि.रघुनाथन को भेज दिया.ऐसा इसलिए सम्भव हो सका क्योंकि शांतनु रे सा :कं.छोड़ गए थे और घोष सा :को कलकत्ता बुला कर होटल डिवीजन का डायरेक्टर इंचार्ज श्री  लक्ष्मण   को बना दिया गया था. 
रघुनाथन सा :बहुत जोर से चिल्ला कर बोलते थे और हर किसी को झाड़ने में अपना बड़प्पन समझते थे. किसी के भड़कावे से मुझ से भी गरम हो कर बोले तब मैंने उन्हे उनके द्वारा सिस्टम तोड़ कर आदेश देने के दृष्टांत उन्ही की तरह गरम होकर गिना दिए.उनका पारा फटा -फट डाउन हो गया और बात तेजी से फ़ैल गई.उन्होंने स्टाफ की मीटिंग बुला कर सबके सामने मेरी प्रशंसा करते हुए कहा कि विजय माथुर सही है मैंने सिर्फ उसे चेक करने के लिए गलत कहा था और वह गलत न होने के कारण मुझ से भिड़ गया सब को इतनी हिम्मत रखनी चाहिए कि अफसर के गलत आदेश को ठुकरा दें.
बहरहाल विनीत सक्सेना सा :के लौटने पर उन्हें रघुनाथन सा :के अन्डर A .  U . F .C .की रैंक मिली और जल्दी ही रघुनाथन सा :को होटल डिवीजन के लिए अनफिट किये जाने के बाद वह यूनिट फायनेंशियल कंट्रोलर बन गये.उनके राजनीतिक विचारों से भिन्न अपने विचारों का उल्लेख पूर्व में कर चुका हूँ.कार्य के सम्बन्ध में उनका और मेरा गहरा ताल-मेल था.इसी लिये मैंने विभाग में नयी भर्तियों के वक्त ठेकेदार के यहाँ कार्यरत श्री विनोद श्रीवास्तव को रखने की सिफारिश की ;सबके सामने तो उन्होंने यह कह कर मेरा मखौल उड़ा दिया कि लगता है तुम यूं.पी .के कायस्थ हो तभी कायस्थ का समर्थन कर रहे हो ,परन्तु इशारे से कहा उसे तुरंत बुला लो .फटाफट इन्टरवियू लेकर पर्सोनल विभाग रेफर कर दिया और शर्त लगा दी आज ही ज्वाईन करोगे तो अप्वाइनमेंट वैलिड होगा वरना कैंसिल.विनोद को ठेकेदार ने भी फटाफट रिलीव कर दिया क्योंकि उनका कार्य सिमट रहा था तब तक के लिये विनोद को ही रिलीवर लाने को उन्होंने कह दिया.
सक्सेना सा : के अधीन श्री सुब्रमनियम चन्द्रसेखर अईय्यर आ गये जो उस वक्त के होटल डिवीजन के इंचार्ज डायेरेक्टर लक्ष्मण सा :के कुछ रिश्तेदार थे.वह पहले फोटोग्राफर भी दिल्ली में रहे थे और चार्टर्ड अकाउनटेंट थे.चंडीगढ़ में जन्म होने के कारण तमिल होते हुए भी फर्राटे की हिन्दी शेखर सा :बोलते थे.सक्सेना सा :के कं. छोड़ने पर वह यूं.ऍफ़.सी. हो गये उनसे भी मेरे सम्बन्ध सौहार्द पूर्ण रहे,वस्तुतः चालाक अफसर जान-बूझ कर मेरा समर्थन करते थे जिससे उनकी छवी भी ईमानदार की बनी रहे.
जेनरल मैनेजर पेंटल सा :जो होटल ओबेराय में युनियन दो-फांक करा चुके थे,होटल मुग़ल में एक युनियन बनवाना चाहते थे.कारण मेनेजमेंट द्वारा प्रस्तावित होटल के बाई लाज/स्टैंडिंग आर्डर्स  का डी.एल.सी.में पेंडिंग होना था.स्टाफ वेलफेयर कमेटी का गठन किया गया.अकाउंट्स विभाग से सुदीप्तो मित्रा ने मेरा नाम प्रपोज करके तीन हस्ताक्षर करा लिये थे लेकिन मैंने हस्तक्षेप करके मित्रा सा :को प्रपोज करके बाकी सभी से हस्ताक्षर करा दिए.मित्रा की दलील थी ये सारे वोट माथुर के कहने पर पड़े हैं बहुमत उसी का है अतः वही रिप्रेंज्टेतिव होना चाहिए ,मेरा तर्क था बहुमत ने मित्रा के पक्ष में वोट दिया है.शेखर सा :ने मुझसे कहा सारे लोग तुम्हारे साथ हैं तुम्ही रहो परन्तु मेरे मित्रा को रखने के आग्रह को मान लिया.वाया स्टाफ वेलफेयर कमेटी ‘होटल मुग़ल कर्मचारी संघ’नामक युनियन का गठन किया गया जिसके महासचिव सुदीप्तो मित्रा थे और अध्ययक्ष थे श्री चन्द्र प्रकाश भल्ला जो टेलीफोन सुपरवाईजर थे और पेंटल सा :के साथ ओबेराय होटल में काम कर चुके थे.मैंने युनियन की सदस्यता नहीं ली थी.मेरठ के अपने कटु अनुभव के कारण इस सब से दूर रहना चाहता था.परन्तु जो हम नहीं चाहते वही अक्सर हो जाता है.मित्रा को बैंक आफ बरोदा में प्रोबेशनरी आफीसर की पोस्ट मिल गई और रिजायीन कर गये.उनसे पहले विनोद श्रीवास्तव भी कैनरा बैंक में क्लर्क बन कर जा चुके थे.समस्त स्टाफ के भारी दबाव में बिना साधारण सदस्य बने ही मुझे सीधे युनियन का महासचिव पद स्वीकार करना पडा. औपचारिकताएं बाद में पूरी की गयीं.सम्पूर्ण वर्किंग कमेटी ने यह मान लिया था कि मैं अपने हिसाब से चलूँगा और किसी भी दबाव को स्वीकार नहीं करूंगा. 
शेखर सा :के अजीज भी थे पर्सोनल मैनेजर श्री हरी मोहन झा जो  बिहार के तत्कालीन मुख्यमंत्री श्री जगन्नाथ मिश्र के भतीज दामाद थे.वह टाटा कं. में रहते हुए दबंग युनियन सेक्रेटरी को धक्का देकर खदेड़ने और सारा सामन जमशेदपुर में छोड़ कर दूसरी जगह प्रोमोशन पाने से प्रफुल्लित थे. उनका कहना था वह रिंग मास्टर हैं और युनियन वही गवर्न करेंगें.उन्होंने अपने राजनीतिक दबदबे से समस्त मैनेजरों को लामबंद कर रखा था और जी.एम्.पेंटल सा :को परेशान कर रखा था.लेखा विभाग में काम पर पकड़ की वजह से शेखर सा :मेरे पक्षधर भी थे और अपने मेनेजमेंट की गुटबाजी में झा सा : के पैरोकार भी थे.लिहाजा झा सा :के चंगुल में मेरे न आने पर भी झा सा :ने मुझसे कोई टकराव मोल नहीं लिया.युनियन की गतिविधियाँ तथा जनता सरकार के बन जाने पर झा सा :के मनोबल में गिरावट आने एवं मकान लेने की प्रक्रिया के सम्बन्ध में अगली बार…….
 

आगरा में /१९७६ -७७ (भाग-२ )

आम चुनाव और विनीत सक्सेना सा :तक पहुँचने के दौरान होटल मुग़ल प्रोजेक्ट में क्या गतिविधियें चलीं उनका वर्णन अभी बाकी रह गया था परन्तु उल्लेख करना आवश्यक है,अतः कुछ की चर्चा प्रस्तुत है.जनवरी १९७६ में लेखा विभाग में कुछ और लोगों की भर्ती हुयी .छोटे भाई अजय के सहपाठी का फुफेरा भाई प्रशांतो कुमार करमाकर उसके साथ रहता था ,उसने अजय से निवेदन किया कि उन्हें मैं होटल मुग़ल में जाब दिला  दूँ.मैंने डी.एस.दत्त सा :से रिकोमेंड किया और उन्होंने उसके बंगाली होने के नाते फटाफट रख लिया -इस रिमार्क के साथ प्रोजेक्ट मैनेजर पी.एल.माहुर सा :को फॉरवर्ड किया था-कैंडिडेट रिकोमेंडेड बाई विजय माथुर ;अतः उन्होंने भी अप्रूव कर लिया.करमाकर ने ०९ जनवरी को ज्वाईन किया था-मित्रा के अन्डर और १० जनवरी को ज्वाईन करने वाले हरीश छाबरा थे पर्चेस सेक्शन में.कं. में बंगाली ग्रुप और पंजाबी ग्रुप बाजी थी. दत्त सा :कं.के वाईस चेयरमेन श्री शांतानु रे (पूर्व मुख्य मंत्री श्री सिद्धार्थ शंकर रे के भाई ) एवं डायरेक्टर इंचार्ज होटल डिवीजन श्री एस.घोष के भतीज दामाद थे .
प्रोजेक्ट  मैनेजर श्री पुरोशोत्तम लाल माथुर और वाईस प्रेसिडेंट प्रोजेक्ट वाई.एस.रामास्वामी जी प्रेसीडेंट होटल डिवीजन कपूर सा :के साथ थे.डिवीजनल फायीनान्शियल कंट्रोलर मेहरा सा :भी इनके साथ थे.लेकिन दत्त सा :किसी की परवाह नहीं करते थे.एक बार उन्होंने मेन कंट्राक्टर का पेमेंट रोक दिया और उसने काम .ऊपर तक दत्त सा :की शिकायत हुयी लेकिन डायरेक्टरों के वरद हस्त से उनका बाल भी बांका न हुआ. दत्त सा :ने स्टोर कीपर जगत भूषन सहाय सा :को रिजायीन करने पर मजबूर कर दिया और उन्हें रांची लौटना पड़ा जबकि उस समय उनको कुत्ते के काटने पर इलाज भी चल रहा था. श्री दवे जो सी.बी.आई.छोड़ कर वाईस प्रेसिडेंट आपरेशंस बने थे इन्क्वायरी करने आये थे और सहाय सा :के सम्बन्ध में मुझ से भी जानकारी ली थी.वह उनका इस्तीफा मांगे जाने से असंतुष्ट थे परन्तु दत्त सा :को डायरेक्टरों का समर्थन होने से कुछ न हो सका.
सोर्स और फ़ोर्स में मजबूत चार्टर्ड अकोंटेंट  दत्त सा :वर्क में परफेक्ट नहीं थे.अतः श्री राजा राम खन्ना सा :को उनकी मदद के लिए भेजा गया जिन्होंने इस बार अपनी सहायता के लिए श्री प्रकाश चन्द्र जैन को बुलवा लिया और जैन सा :ने अपनी मदद के लिए श्री ब्रिज राज किशोर श्रीवास्तव सा :को बुलवा लिया.ये सभी सहारनपुर सिगरेट फैक्टरी से रिटायर्ड  और मात्र अनुभवी थे.इन बुजुर्ग लोगों  में से पहले दो मेरे अलावा किसी और स्टाफ का समर्थन नहीं प्राप्त कर पाते थे तथा दत्त सा :की मार्फ़त ही काम करा पाते थे. जब मैंने मुझ पर अधिक कार्य-भार डालने की बाबत उनसे कहा तो दोनों का जवाब था -तुम खुशी से कर देते हो इसलिए तुम्हीं से कहते है ,हम रिटायर्ड लोग बदले में तुम्हें कुछ दिला तो नहीं सकते सिर्फ तुम्हारी बेहतरी के लिए आशीर्वाद ही दे सकते हैं.सच में खन्ना सा :और जैन सा :की मेहरबानी से प्रोजेक्ट अकाउंट्स में मैं परफेक्ट भी हो गया था,जिसका लाभ दूसरी जगहों पर सफल कार्य निष्पादन करने में हुआ.श्रीवास्तव सा :युवा पीढी के चहेते थे -मसखरे थे उनमें घुट जाते थे और मैं बुजुर्गों में ही अपने को फिट पाता था.
एक बार प्रोजेक्ट तेजी से चल रहा था और उदघाटन का समय नजदीक आ रहा था.रामास्वामी जी इंस्पेक्शन के लिए आ रहे थे ;समस्त इंजीनियर और गैर इंजीनियर -दत्त सा :समेत अधिकाँश लेखा कर्मचारी भी व्यस्त थे एरोड्रम पर रिसीव करने मुझे भेज दिया गया -शायद अभीष्ट यह दिखाना था की सभी अफसर घोर व्यस्त हैं इसलिए स्टाफ में सीनियर मोस्ट को भेजा गया है.लौटते में कार में रामास्वामी जी ने मुझ से व्यक्तिगत और आफिशियल दोनों प्रकार की जानकारियाँ मांगीं .उनका व्यवहार उच्च पदाधिकारी होने के बावजूद मधुर था ,वह एम्.ई.एस.से रिटायर्ड थे और मेरे बाबूजी एम्.ई.एस में कार्य रत.शायद उन्हीं के किसी प्रयास से दत्त सा :ने बाद में मुझे सीनियर ग्रेड भी दे दिया था.आगे फिर……
 

आगरा में/१९७६ -७७

होटल मोगुल ओबेराय का नाम बदल कर होटल मुग़ल शेरेटन कर दिया गया .आयी.टी.सी. ने ओबेराय से कान्ट्रेक्ट तोड़ दिया और लम्बे समय तक दोनों में कानूनी विवाद चला.अमेरिका की शेरटन कं.से तालमेल किया गया.कुल तीन  करोड़ का शुरू हुआ प्रोजेक्ट छै करोड़ में पूरा हुआ.आठ प्रतिशत की दर से कमीशन चलता था.बीच मैं रोड़ा था,अतः नए आये प्रोजेक्ट कामर्शियल मैनेजर श्री देव सदय दत्त ने कैश पर प्रशांतो कुमार करमाकर को लगा दिया और मुझे मेन फायीनांस सेक्शन दिया.काम बढने के साथ मेरे अधीन नए रिक्रूटी आते गए और मुझे सीनियर क्लर्क बना दिया गया.

इन्टरवियू के समय के सक्सेना सा :तो सिलेक्शन न होने के बाद कभी नहीं मिले ,परन्तु श्री विनोद कुमार श्रीवास्तव हम लोगों से मिलने आते रहे. मुझ से मेन कंट्राक्टर  ने कोई लड़का अपने लेखा विभाग हेतु बताने को कहा और मैंने विनोद जी को उनके यहाँ जाब दिलवा दिया.इस प्रकार उनसे सतत संपर्क बना रहा.उनके एक सुपरवाईजर श्री अमर सिंह राठौर -बार्डर सिक्यूरिटी फ़ोर्स के रिटायर्ड सब इन्स्पेक्टर थे.वह हस्त-रेखा मे पारंगत थे. एक दिन विनोद मुझे जबरदस्ती उनके पास मेरा हाथ दिखाने ले गये;तब तक ज्योतिष पर मेरी रूचि नहीं थी.विनोद जी की खुशी के लिए ही मैंने अपना हाथ दिखाया था.राठौर जी ने जो कुछ बताया समयानुसार सही गया (केवल एक बात का समय निकल चुका है ).उन्होंने २६ वर्ष की उम्र में अपने मकान में चले जाने और ४३ वर्ष की उम्र मेंअपना होने की बात कही थी.इसमें मुझे उस वक्त विरोधाभास भी लगा और रु.२७५ प्रतिमाह वेतन में कैसे होगा यह भी समझ नहीं आया. परन्तु हुआ यही-रु.२९० प्रतिमाह की किश्त १५ वर्ष चुका कर रिश्वत न देने के कारण विलम्ब से रजिस्ट्रेशन हुआ .मकान एलाट होने तक सुपरवाईजर अकाउंट्स बन चुका था और वेतन काफी बढ़ चुका था जिससे किश्तों का भुगतान हो सका.उन सब का जिक्र अपने क्रम पर ही ठीक रहेगा.
आपात काल में भी में इंदिरा विरोधी रुख छिपाता नहीं था और खुल कर चर्चा करता था.साथ के कर्मचारी मेरे साथ बाहर  निकलने में घबराते थे कहीं गिरफ्तार न कर लिए जाएँ.न तो मुझे डर था और न मैं गलत था,उस पर इंटेलीजेंस वालों से व्यक्तिगत परिचय जबकि वे लोग अनभिग्य थे कि आगंतुक लोग इंटेलीजेंस के हैं और उनसे मेरे मधुर सम्बन्ध हैं.थोडा-थोडा जो ज्योतिष का ज्ञान था उसके आधार पर मैनें चुनावों की घोषणा होते ही ऐलान कर दिया था -इंदिरा गांधी और संजय गांधी तक बुरी तरह से हारेंगें ,चौ.सा :ने इंटेलीजेंस  इन्स्पेक्टर आर.एस.यादव से मेरी बात बतायी तो उन्होंने साफ़ कहा ऐसा ही होगा वे लोग भी सरकार से असंतुष्ट थे अतः जान-बूझ कर इंदिरा जी को गलत रिपोर्ट दी गयी थी कि माहौल उनके पक्ष में है जबकि हकीकत उलट थी.इसी कारण एक वर्ष कार्यकाल संविधान संशोधन द्वारा बढवाने के बावजूद ५ वर्ष में ही इमरजेंसी रहते हुए चुनाव करवा डाले.जब ०३ फरवरी १९७७  को बी.बी.सी.द्वारा बाबू जगजीवन राम द्वारा सत्ता कांग्रेस छोड़ने की घोषणा हुयी तो हमारे फायीनान्शियल मैनेजर विनीत सक्सेना सा :जो अब तक मेरी भविष्यवाणी को गलत बता रहे थे पलट कर मेरी बात की तस्दीक करने लगे.लेकिन उनकी नजर में नए प्रधानमंत्री जगजीवन बाबू ही होने वाले थे जबकि मैंने मोरारजी देसाई के पी.एम्.बनने की बात दृढ़तापूर्वक कही थी.

यूं.ऍफ़.सी.विनीत सक्सेना सा :की पत्नी रश्मि सक्सेना जी ‘THE HINDUSTAN TIMES ‘ की पत्रकार थीं उनके साथ वह भी सेठ अचल सिंह के इन्टरवियू में इसलिए गए थे क्योंकि मैंने सेठ जी के चुनाव हारने की भविष्यवाणी कर रखी थी जबकि आगरा की ग्रामीण जनता में उनकी एक धाक थी और उनके न हारने की चर्चाएँ थीं.सेठ जी लोक सभा में सोते रहते थे और मतदान के समय जब उन्हें झकझोरा जाता था तो हाथ खड़ा कर देते थे एक बार तो दोनों हाथ खड़े कर दिए थे. फिर भी जनता उन्हें काम करने के कारण चुनती रहती थी. उनके विरुद्ध जनता पार्टी से श्री शम्भूनाथ चतुर्वेदी मैदान में थे ,वह स्वतंत्रता संग्राम सेनानी थे जो डी.एस.पी. की नौकरी छोड़ कर आन्दोलन में कूदे थे. सक्सेना जी ने कहा आदमी तो अच्छा है सेठ जी से लेकिन उन्हें हरा नहीं पायेगा.और बहुत सी बातें इस दौरान आफिस की तथा व्यक्तिगत एवं राजनीतिक अगली बार……

 
 
%d bloggers like this: